इटली में एक दिन में तीसरी लहर में 29,000 लोग मारे गए, भारत में भी दस्तक देंगे, पढ़िए इस बार कौन खतरे में है | 29,000 people killed in Italy in the third wave in one day, will knock in India too, read who is in danger this time

नई दिल्ली आप अनुमान लगा सकते हैं कि इटली, फ्रांस, नीदरलैंड में हुई मौतों से कोरोना तीसरी लहर कितनी भयावह हो सकती है। कोरोना की तीसरी लहर ने दुनिया के कई देशों में अपनी दस्तक दी है। जबकि, इन देशों में अधिकांश लोगों ने वैक्सीन की दोनों खुराक ली है, लेकिन अब यह वायरस एशियाई देशों की तरफ बढ़ रहा है।भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने स्वास्थ्य प्रणाली की कमर तोड़ दी है। हजारों लोग ऑक्सीजन, बेड और दवाओं के लिए कतारों में खड़े हैं। संक्रमित और मरने की संख्या हर रोज बढ़ रही है। इस अवधि के दौरान, यदि तीसरी लहर भारत में प्रवेश करती है, तो क्या भारत इस लहर को रोकने में सक्षम होगा, जैसा कि यूरोपीय देशों ने दिखाया है। 

नई दिल्ली। आप अनुमान लगा सकते हैं कि इटली, फ्रांस, नीदरलैंड में हुई मौतों से कोरोना तीसरी लहर कितनी भयावह हो सकती है। कोरोना की तीसरी लहर ने दुनिया के कई देशों में अपनी दस्तक दी है। जबकि, इन देशों में अधिकांश लोगों ने वैक्सीन की दोनों खुराक ली है, लेकिन अब यह वायरस एशियाई देशों की तरफ बढ़ रहा है।भारत में कोरोना की दूसरी लहर ने स्वास्थ्य प्रणाली की कमर तोड़ दी है। हजारों लोग ऑक्सीजन, बेड और दवाओं के लिए कतारों में खड़े हैं। संक्रमित और मरने की संख्या हर रोज बढ़ रही है। इस अवधि के दौरान, यदि तीसरी लहर भारत में प्रवेश करती है, तो क्या भारत इस लहर को रोकने में सक्षम होगा, जैसा कि यूरोपीय देशों ने दिखाया है।

अन्य देश

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के मुताबिक, भारत को छोड़कर दुनिया के कई देशों में तीसरी लहर ने अपनी दस्तक दे दी है या देने वाली है।

जर्मनी

फरवरी के अंत में वायरस ने जर्मनी में कहर बरपाना शुरू कर दिया। स्कूलों, व्यवसायों, कॉलेजों को फरवरी के अंत तक खोला जाना था, लेकिन वायरस के नए स्टैन के कारण, वहां लॉकडाउन लगाने की आवश्यकता थी। पहले दो वेब ने जर्मनी में कहर नहीं बरपाया, जितनी तीसरी लहर ने। एक ही दिन में कुल 29 हजार लोगों की मौत हुई। इस वायरस का सबसे ज्यादा असर युवा आबादी पर हुआ है।

इटली

इटली में तीसरी लहर की रक्षा के लिए, सरकार का प्रयास है कि अधिक से अधिक लोगों को टीका लगाया जाए। बता दें कि इटली में जनवरी में कुल 12 हजार मामले सामने आए, जो अप्रैल में बढ़कर 20 हजार से ज्यादा हो गए। इटली में, 15 से 49 वर्ष की आयु के लोग इस संक्रमण से अधिक प्रभावित हैं।

नीदरलैंड


नीदरलैंड में कोरोना संक्रमण की दर में 35 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जिसमें बुधवार को कुल 5,000 मामले सामने आए हैं। जिसके कारण नीदरलैंड में तालाबंदी बढ़ा दी गई है। सरकार 28 अप्रैल से तालाबंदी हटाने की सोच रही थी। इसी समय, उन्हें संक्रमण बढ़ने के कारण लॉकडाउन बढ़ाने का निर्णय लेना पड़ा।

फ्रांस


फ्रांस में पहले भी, कोरोना वायरस ने तबाही मचाई थी। उस समय भी, सबसे ज्यादा मौतें हुई थीं और आज भी गुरुवार को फ्रांस में कुल 1 लाख लोग मारे गए हैं। इसी समय, देश में तीसरा राष्ट्रीय लॉकडाउन घोषित किया गया है। इस अवधि के दौरान, कॉलेजों, स्कूलों और व्यवसायों को प्रतिबंधित कर दिया जाएगा। देश में रात 7 बजे से सुबह 6 बजे तक रात का कर्फ्यू लगाया गया है।

तीसरी लहर क्यों आ सकती है


राघवन ने कहा कि जिस तरह से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है, यह स्पष्ट है कि भारत में तीसरी लहर दस्तक देगी। उन्होंने आगे कहा कि जब पहली बार कोरोना वायरस आया था, तो कई वेरिएंट मौजूद नहीं थे। दूसरी लहर में जितने पाए गए। इसका साफ मतलब है कि कोरोना के नए वेरिएंट तीसरी लहर का कारण बन सकते हैं। कोरोना की दूसरी लहर के पीछे एक बड़ा कारण है कि हर बार वायरस का रूप बदल रहा है।

इसका लोगों पर असर

राघवन ने आगे बताया कि जब वायरस पहली बार आया था, तब लोगों की प्रतिरोधक क्षमता बेहतर थी, जिसके कारण कम से कम लोग संक्रमण से प्रभावित थे। जा चुका था। वह संक्रमण से भी संक्रमित था। कोरोना की दूसरी लहर की वापसी का एक मुख्य कारण यहां के लोगों की खराब प्रतिरक्षा और असावधानी है। उन्होंने आगे कहा कि अगर आम लोग अभी भी लापरवाही बरतने से परहेज नहीं करते हैं तो एक तीसरी लहर आ सकती है।

वायरस एक नया तरीका ढूंढेगा

भारत के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के। विजय राघवन ने कहा कि भारत में जिस तरह से नए रूप देखने को मिल रहे हैं, उसके कारण आने वाले समय में भारत तीसरी लहर का शिकार होगा। भारत के लोगों की गिरती प्रतिरक्षा इस लहर का मुख्य कारण होगी। इस बार इस वायरस का असर सबसे ज्यादा बच्चों पर पड़ेगा। राघवन ने कहा कि जब ज्यादा से ज्यादा लोग टीकाकरण करवाते हैं।फिर वायरस एक अलग तरीके से लोगों को पकड़ने की कोशिश करेगा। उन्होंने आगे कहा कि वायरस अपना रूप बदलता रहेगा। इसलिए हमें भी अपनी रणनीति और पहलुओं पर अधिक से अधिक काम करना होगा। वायरस का कोई भी प्रकार ह्यूमून से ह्यूमून तक फैल जाएगा। दुनिया के सभी वैज्ञानिक इस वैरिएंट को रोकने के लिए काम कर रहे हैं।

बच्चों को ज्यादा खतरा

जहां पहली लहर ने अधिक से अधिक बुजुर्गों पर कहर बरपाया। इसी समय, दूसरी लहर 18 साल से कम उम्र के युवाओं को घेरेगी और अब तीसरी लहर। WHO की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना वायरस के नए वेरिएंट B117 पहली बार ब्रिटेन में पाए गए थे। कई वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि यह संस्करण बच्चों के लिए बहुत खतरनाक होगा। यह माना जाता है कि यह मूल वायरस से 50 प्रतिशत अधिक खतरनाक है, इसकी संक्रमण दर बाकी वायरस की तुलना में तेजी से बढ़ेगी।

तीसरी लहर के लिए तैयार केंद्र सरकार


ऑक्सीजन की उपलब्धता को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। इस दौरान, अदालत ने केंद्र सरकार से कहा कि तीसरी लहर आना बाकी है। इस मामले में, ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करें। सुनवाई के दौरान, सरकार ने अपना दृष्टिकोण बताया कि एक सर्वेक्षण से पता चलता है कि दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन के पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध हैं। केंद्र ने कहा, ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन के जरिए आज 280 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जानी है।इसके साथ, केंद्र सरकार ने कहा कि अगर दिल्ली को आवश्यकता से अधिक आपूर्ति की जाती है, तो अन्य राज्यों की हिस्सेदारी प्रभावित होगी। बता दें कि 4 मई को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से ऑक्सीजन प्लान मांगा था। जिसके बारे में केंद्र सरकार ने आज अपना पक्ष प्रस्तुत किया है।

Twspost news times

Leave a Comment

Discover more from Twspost News Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading