केंद्रीय बजट: आम आदमी बढ़ती महंगाई और खर्चों से डरता है, लोगों ने सर्वेक्षण में यह कहा Union budget

UNION BUDGET:आईएएनएस सी-वोटर(IANS C-Voter) बजट इंस्टा-पोल(Insta-poll) के अनुसार, लगभग 56% प्रतिशत V इसके अलावा, केवल 16.1 प्रतिशत लोगों का मानना ​​है कि इस बजट में किए गए प्रावधानों (The provisions)के परिणामस्वरूप (the resulting)  उनके हाथों में अधिक धन होगा।  (Significantly) है कि सोमवार को संसद में बजट (Budget in parliament) पेश होने के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री (Union Finance Minister) निर्मला सीतारमण द्वारा किए गए सर्वेक्षण (Survey) में लगभग हर वर्ग के 1,200(12k) लोग शामिल थे।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
इस साल के बजट के बाद, 49.7 प्रतिशत लोगों ने महसूस किया कि भविष्य के खर्चों को प्रबंधित करना मुश्किल होगा। सर्वेक्षण में कहा गया है कि पिछले साल की तुलना में इस तरह की सोच वाले लोगों में 11.8 प्रतिशत की गिरावट थी, क्योंकि 38 प्रतिशत ने कहा कि भविष्य के खर्चों का प्रबंधन करना मुश्किल होगा।

सर्वेक्षणकर्ता ने तीन मानदंडों के माध्यम से प्रतिक्रियाओं का अनुमान लगाया – क्या बजट उनके खर्च में वृद्धि करेगा, उन्हें अधिक बचत करने की अनुमति देगा, या कोई फर्क नहीं पड़ेगा। 2013 के बाद से एकत्र किए गए प्रतिशत से इस सर्वेक्षण की प्रतिक्रियाओं का मिलान किया गया।

सर्वेक्षण के अनुसार, इस साल 56.4 प्रतिशत लोगों ने बजट में अपने खर्च को बढ़ाने की उम्मीद की है, जबकि पिछले साल यह 47.3 प्रतिशत था। इस तरह के अनुमान 2019 में 39.7 प्रतिशत, 2018 में 64.4 प्रतिशत, 2017 में 54.3 प्रतिशत, 2016 में 62.2 प्रतिशत, 2015 में 64.4 प्रतिशत, 2014 में 72.9 प्रतिशत और 2013 में 81.2 प्रतिशत थे।

मध्यम वर्ग |the middle class के लिए कोई बड़ी राहत नहीं…

हालांकि, इस तुलनात्मक अध्ययन (comparative study) से पता चलता है कि ज्यादातर लोगों का मानना ​​था कि एनडीए के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के 2014 में सत्ता में आने से पहले उनका खर्च एक साल बढ़ जाएगा। लेकिन ऐसा मानने वाले लोगों का प्रतिशत अब लगभग 25 प्रतिशत कम हो गया है, जो एक तरह से है सरकार के लिए राहत।

यह उल्लेखनीय है कि सीतारमण ने बजट में स्वास्थ्य सेवा और बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर विशेष जोर दिया है, लेकिन मध्यम वर्ग के लिए कोई बड़ी राहत नहीं थी क्योंकि इस साल आयकर स्लैब (Income tax slab) में कोई बदलाव नहीं हुआ था। केंद्रीय बजट (Central budget)  पेश होने के बाद, 49.7 प्रतिशत को लगता है कि उनके भविष्य के खर्चों का प्रबंधन (Expense management)  करना मुश्किल होगा, जबकि 34 प्रतिशत को लगता है कि खर्च बढ़ जाएगा, लेकिन इसे प्रबंधित (Managed)  किया जाएगा।बजट की प्रस्तुति(Presentation of budget)  के बाद सोमवार को आईएएनएस सी-वोटर बजट इंस्टाल में यह बात सामने आई। सर्वेक्षण देश के विभिन्न हिस्सों में 1,200 से अधिक लोगों के बीच किया गया था। केंद्रीय बजट के लाइव टेलीकास्ट के तुरंत बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में सर्वेक्षण किया गया था। सर्वेक्षण से पता चला कि नौ प्रतिशत लोग यह नहीं जानते हैं कि अगले एक साल के दौरान वे अपना खर्च (Own expense)  कैसे उठा पाएंगे।

इस साल के बजट के बाद, 49.7 प्रतिशत लोगों ने महसूस किया कि भविष्य के खर्चों को प्रबंधित करना मुश्किल होगा। सर्वेक्षण में कहा गया है कि पिछले साल की तुलना में इस तरह की सोच वाले लोगों में 11.8 प्रतिशत की गिरावट (Percentage drop) थी, क्योंकि 38 प्रतिशत ने कहा कि भविष्य के खर्चों का प्रबंधन (Management of future expenses) करना मुश्किल होगा।

सर्वेक्षण में यह भी कहा गया है कि 34 प्रतिशत विचार व्यय बढ़ेगा, लेकिन पिछले वर्ष के 10.7 प्रतिशत के परिवर्तन के साथ इसका प्रबंधन किया जा सकता है। 2020-21 के केंद्रीय बजट (Central budget) के बाद, 44.7 प्रतिशत लोगों ने महसूस किया (felt it)  कि खर्च बढ़ेगा, लेकिन इसे प्रबंधित किया जा सकता (Can be managed) है।

सर्वेक्षण में शामिल 7.5 प्रतिशत लोगों ने महसूस किया कि दिन-प्रतिदिन खर्च कम होता जाएगा, जो पिछले साल के बजट से 1.9 प्रतिशत कम था। सर्वेक्षण में कहा गया है कि 2014 के बजट में, कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार द्वारा प्रस्तुत किया गया था, 42.1 प्रतिशत लोगों ने महसूस किया कि खर्च बढ़ेगा, लेकिन प्रबंधनीय रहेगा।

निष्कर्ष बताते हैं कि 2014 में, 20.4 प्रतिशत ने महसूस किया कि उनके भविष्य के खर्चों को प्रबंधित करना मुश्किल होगा, जबकि 23.1 प्रतिशत ने महसूस किया कि उनके दिन-प्रतिदिन के खर्चों (Day to day expenses) में कमी आएगी और उस समय 14.1 प्रतिशत इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं (No comments)  की गई थी।

Twspost news times

Leave a Comment

Discover more from Twspost News Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading

PM Kisan 17th Installment Date 2024 The Swarved Mahamandir Dham June 2024 New Rules: 1 जून से बदलने वाले हैं Alia Bhatt’s Stunning Saree in “Rocky Aur Rani Ki Prem Kahani”