धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय, बागेश्वर धाम, विवाद,नेटवर्थ। Dhirendra Krishna Shastri Biography in hindi. [Net-Worth]

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय, बागेश्वर धाम, विवाद,नेटवर्थ। Dhirendra Krishna Shastri Biography in hindi. [Net-Worth]

Table of Contents

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय, जीवनी, बागेश्वर धाम, महाराज, भागवत कथा, ताज़ा न्यूज़,आयु, उम्र, भजन, विवाद, परिवार, शादी किससे हुई, धर्म, जाति (Dhirendra Krishna Shastri Biography in Hindi) (Latest News Bageshwar Dham Kahan hai,Bageshwar Dham, Kahan hai, Maharaj, Date of Birth, Age, Latest News, Wife, Family, Net-Worth, Katha, Location, Temple, Caste, Religion)  

Dhirendra Krishna Shastri


आजकल सोशल मीडिया पर एक साधु का साया महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री हैं। मध्य प्रदेश के बागेश्वर धाम में अपना दरबार लगाने वाले धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने इंटरनेट की दुनिया में तहलका मचा रखा है. लाखों लोग उनके भक्त हैं और उनके द्वारा शेयर किए गए वीडियो को देखते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें बिना बताए ही लोगों के मन की बात पता चल जाती है।उनकी यह खास बात लोगों को काफी पसंद आती है, जिसके चलते उनके भक्त उन्हें हनुमान जी का अवतार मानते हैं। आज हम आपको देश के इस चहेते महाराज के जीवन के बारे में बताएंगे कि महाराज धीरेंद्र कृष्ण कैसे चमत्कारी बाबा बन गए।

बागेश्वर धाम में दरबार लगाने वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री की सबसे खास बात यह है कि वह अपने भक्तों के मन की बात बिना बताए ही जान लेते हैं। इसी विशेष कारण से लोगों का मानना ​​है कि हनुमान जी की उन पर अपार कृपा है, जिससे वे सबकी परिस्थितियों और मन की बात जानते हैं।

यहां तक ​​कि कुछ लोग उन्हें हनुमान जी का अवतार भी कहते हैं। पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री इन दिनों अपने बयानों और विवादों को लेकर काफी चर्चा में हैं। आइए आज हम आपको इस लेख के माध्यम से पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री (Dhirendra Krishna Shastri Biography in Hindi) का जीवन परिचय बताते हैं।

धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय. | Life introduction of Dhirendra Krishna Shastri.

नाम(FULL NAME)

श्री धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री(Shri Dhirendra Krishna Shastri)

उपनाम

बागेश्वर धाम महाराज

प्रसिद्ध नाम

बालाजी महाराज, बागेश्वर
महाराज
, धीरेंद्र
कृष्ण शास्त्री

जन्म

4 जुलाई 1996

जन्म स्थान

गड़ा, छतरपुर, मध्य
प्रदेश

धर्म

हिन्दू

पिता का नाम

राम कृपाल गर्ग

माता का नाम

सरोज गर्ग

दादाजी का नमा

भगवान दास गर्ग

भाई-बहन

शालिग्राम गर्ग जी महाराज (छोटा भाई), एक
बहन

जाति

पंडित

वैवाहिक स्थिति

अविवाहित

शैक्षिक योग्यता

कला वर्ग में स्नातक

भाषा

बुंदेली, संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी

व्यवसाय

सनातन धर्म प्रचारक, कथावाचक, दिव्य
दरबार
, प्रमुख
बागेश्वर धाम
, यूट्यूबर

गुरू

श्री दादा जी महाराज सन्यासी बाबा

नेटवर्थ

19.5
करोड़

महाराज धीरेंद्र शास्त्री का जन्म, आयु, परिवार और प्रारंभिक जीवन.| Birth, Age, Family and Early Life of Maharaj Dhirendra Shastri.

महाराज धीरेंद्र कृष्ण का जन्म 4 जुलाई 1996 को मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के गढ़ा पंज गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता राम कृपाल गर्ग और माता सरोज गर्ग हैं। उनके घर में दादा, उनकी एक बहन और एक छोटा भाई भी है। महाराज धीरेंद्र कृष्ण ने अपना प्रारंभिक जीवन गांव में बिताया। आपको बता दें कि उनका परिवार बेहद गरीब था। जिसके कारण उन्हें सुख-सुविधाओं से वंचित रहना पड़ा। महाराज धीरेंद्र कृष्ण को बचपन से ही आध्यात्मिक बातों से बहुत लगाव रहा है। जिसकी शिक्षा उन्होंने अपने दादा से प्राप्त की। उनके दादा निर्मोही अखाड़े के सदस्य थे। दादा के सानिध्य में ही धीरेंद्र शास्त्री का लगाव रामायण और भगवत गीता से हुआ।

महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के गुरु (धीरेंद्र शास्त्री गुरु) | Guru of Maharaj Dhirendra Krishna Shastri.

जिस परिवार में महाराज धीरेंद्र कृष्ण का जन्म हुआ। वह बागेश्वर धाम को बहुत मानते थे। उनके दादा बागेश्वर धाम में रहते थे। यहां उनके दादा गुरु सन्यासी बाबा की समाधि भी मौजूद है। आपको बता दें कि सन्यासी बाबा भी उन्हीं के खानदान के थे। जिन्होंने करीब 320 साल पहले समाधि ले ली थी। धीरेंद्र के दादाजी लंबे समय तक बागेश्वर धाम में दरबार लगाया करते थे।जिसे देखकर उनके प्रति भी आस्था जागी और उन्होंने दादाजी के दरबार में अर्जी दाखिल की। परिवार की हालत देखकर उन्होंने इससे निजात दिलाने को कहा। जिसके बाद उनके दादा ने उन्हें अपना शिष्य बना लिया। वहीं से उन्होंने इन सिद्धियों की शिक्षा प्राप्त की और बागेश्वर धाम की सेवा करने लगे।दादा भगवानदास गर्ग जैसे सिद्ध संत के सान्निध्य में पले-बढ़े धीरेंद्र कृष्ण ने उन्हें अपना गुरु बना लिया।उनके दादा का बागेश्वर धाम से गहरा नाता रहा है, वे निर्मोही अखाड़े के पास हनुमान मंदिर में लगने वाले दरबार का नेतृत्व करते थे.

बागेश्वर महाराज जी ने कई बार कहा है कि उन्हें जो भी सिद्धियाँ और शक्तियाँ मिली हैं, वे उनके दादा भगवान दास गर्ग के आशीर्वाद से प्राप्त हुई हैं।

क्या है बागेश्वर धाम? | What is Bageshwar Dham?

बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के गढ़ा में स्थित एक हनुमान जी का मंदिर है। यह वही गांव है जहां महाराज धीरेंद्र कृष्ण का जन्म हुआ था। यहीं पर उनके दादाजी ने भी समाधि ली थी। दुनिया भर से लोग यहां आते हैं और अपना नाम लगाते हैं। मंगलवार के अलावा यहां कोई अन्य आवेदन नहीं किया जाता है। अर्जी के लिए मंगलवार का दिन इसलिए चुना गया है क्योंकि इस दिन हनुमान जी का दिन होता है। आपको बता दें कि जो लोग यहां आकर आवेदन करते हैं वो लाल कपड़े में बंधा हुआ नारियल जरूर लाते हैं।मान्यता है कि जो कोई भी इस नारियल को बांधकर उस मंदिर में जाता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है। जिस वजह से यहां मंगलवार को लाखों लोग नारियल बांधने आते हैं। यहां महाराज धीरेंद्र कृष्ण का भव्य दरबार लगता है। जहां लोग अपनी समस्याओं का समाधान लेने आते हैं।

बाबा बागेश्वर धाम के अनमोल वचन. | Precious words of Baba Bageshwar Dham.

कथा सुनाते हुए बागेश्वर बाबा कई ऐसी अमूल्य बातें कहते हैं जो हर मनुष्य के जीवन में बहुत काम आती हैं। उनके सुविचार निम्न है –

  • छात्र अपने दैनिक जीवन में अपने माता-पिता और गुरुजनों को प्रणाम करने लगे, उन्हें बढ़ती उम्र और सीखने से कोई नहीं रोक सकता। (Students started saluting their parents and teachers in their daily life, no one can stop them from increasing age and learning.)
  • जो लोग हर समय कमी के बारे में सोचते रहते हैं, वे नहीं जानते कि अगर कमी नहीं होगी, तो प्रभाव का महत्व कभी पता नहीं चलेगा। (Those who keep thinking about the lack all the time, they do not know that if there is no lack, then the importance of the effect will never be known.)
  • जो दरिद्र होते हैं वे अधिक भजन करते हैं, प्रभाव के समय भजन नहीं हो सकता। (People who are in poverty do more bhajan, there cannot be bhajan at the time of influence.)
  • झूले की गति से सुख-दुख को देखो, जितना दु:ख का झूला पीछे जायेगा, सुख का झूला उतना ही आगे जायेगा। (Look at happiness and sorrow at the speed of a swing, the more the swing of sorrow goes back, the swing of happiness will go further than that.)
  • प्रार्थना इंसान को हर बुरे वक्त से बचा सकती है। (Prayer can save a man from every bad time.)

क्यों चर्चा में है बागेश्वर धाम, क्या है विवाद? | Why is Bageshwar Dham in discussion, what is the controversy?

नागपुर की अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति अंधविश्वास के खिलाफ अभियान चलाने वाली संस्था है। उन्होंने बागेश्वर महाराज पर अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि जब बागेश्वर महाराज को चमत्कार दिखाने के लिए ललकारा गया तो वे कहानी बीच में ही छोड़कर भाग गए। हालांकि इस मुद्दे पर बागेश्वर महाराज ने बयान भी जारी किया और कहा कि उन्हें चुनौती देने वाली संस्था शहर से दूर रायपुर बुला रही थी, लेकिन रायपुर जाना संभव नहीं था, जिससे उन पर झूठे आरोप लगाए जा रहे थे रहा। उन्होंने कहा की अगर महाराज धीरेन्द्र कृष्ण ऐसा करने में सफल हो जाते हैं तो उन्हें 30 लाख रूपये का इनाम दिया जाएगा। लेकिन महाराज धीरेन्द्र कृष्ण ने उनकी चुनौती को स्वीकार नहीं किया है।
वह अपनी रामकथा को बीच में छोड़कर रायपुर कैसे जा सकते हैं।

विवाद पर महाराज धीरेंद्र कृष्ण का बयान. | Dhirendra Shastri Bageshwar Baba Statement.

महाराज धीरेंद्र कृष्ण ने विवाद पर बयान जारी करते हुए कहा है कि हाथी बाजार जाते हैं, कुत्ते हजारों भौंकते हैं. इसका मतलब यह है कि वह सिर्फ बातें करता है और कुछ करने की हिम्मत नहीं रखता। हम सालों से कहते आ रहे हैं कि हम चमत्कारी नहीं हैं और न ही कोई गुरु हैं। हम केवल बागेश्वर धाम सरकार बालाजी के सेवक हैं। अगर कोई हमें चुनौती दे रहा है तो वह खुद यहां आकर हमारा काम देख सकता है। हम अपना स्थान छोड़कर कहीं नहीं जा रहे हैं।

महाराज धीरेंद्र कृष्ण के चमत्कार। | Miracles of Maharaj Dhirendra Krishna. 

महाराज धीरेंद्र कृष्ण कथावाचक हैं। वह मंगलवार को बागेश्वर धाम में अपनी गद्दी लगाते हैं। वे लोगों को बताते हैं कि आप जिस परेशानी में हैं, उससे कैसे छुटकारा पाया जाए। लेकिन लोगों ने उनके लिए यह धारणा बना ली है कि वह बिना बताए लोगों के मन की बात सुलझा देते हैं, जो सच है। जिसके कारण लोग उन्हें चमत्कारी बाबा भी कहने लगे हैं। लाखों लोग उनके पास जाते हैं और अपनी समस्या बताते हैं और उनका समाधान जानते हैं। कहा जाता है कि यहां जो भी जाता है वह कभी खाली हाथ नहीं लौटता है। यह अर्जी एक पर्ची के जरिए लगाई जाती है। जिस पर भक्त बस अपना नाम लिखकर इस पर्ची को डिब्बे में रख देता है। जिसके बाद पर्ची निकालकर उसे बुलाया जाता है। महाराज उनका नाम पढ़कर ही उनके बारे में सब कुछ बता देते हैं। लोग कहते हैं कि महाराज जो कहते हैं, अगर वह हो जाए तो आपका कोई भी काम कभी नहीं रुक सकता।

महाराज धीरेंद्र को मिला सम्मान। | Maharaj Dhirendra got the honor. (Dhirendra Shastri Achievement)

बागेश्वर धाम के महाराज 1 जून से 15 जून तक ब्रिटेन यात्रा पर गए थे। जब वो लंदन पहुंचे तो उनका भव्य स्वागत किया गया। जिसके बाद उन्होंने लंदन और लेस्टर शहर में जाकर श्रीमत भागवत कथा और हनुमत कथा का वाचन किया।  जिसके कारण उन्हें ब्रिटिश संसद की ओर से तीन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। ये तीन पुरस्कार हैं संत शिरोमणि, वर्ल्ड बुक ऑफ लंदन और वर्ल्ड बुक ऑफ यूरोप। इस पुरस्कार से सम्मानित होना अपने में ही काफी गर्व की बात है। ये पुरस्कार पाकर उन्होंने श्रीराम के जयकारे लगाए। 

महाराज धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री के पास कार। | Dhirendra Shastri Car Collection. 

महाराज धीरेंद्र कृष्ण के पास कई निजी कारें हैं। जो अक्सर बाहर जाने में काम आता है। जिनमें से एक Tata Motor की पसंदीदा SUV Tata Safari है, जिसमें वह अक्सर मंदिर या आस-पास के स्थानों पर प्रवचन देने जाते हैं। उनके पास जितने भी वाहन हैं वे बहुत महंगे हैं।

महाराज धीरेन्द्र कृष्ण का नेटवर्थ। | Dhirendra Shastri Net Worth.  – Updated 26th Jan

हालांकि महाराज धीरेंद्र कृष्ण बेहद गरीब परिवार से हैं। लेकिन आजकल वे खूब पैसा कमा रहे हैं। आपको बता दें कि उनकी रोजाना की कमाई 8 हजार रुपये है। और वह प्रति माह 3.5 लाख रुपये कमाते हैं। जिससे उनकी नेटवर्थ 19.5 करोड़ के करीब पहुंच गई है।




Twspost news times

Leave a Comment

Discover more from Twspost News Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading