जब भारत के प्रधान मंत्री को उनके ही सुरक्षा गार्डों द्वारा गोलियों से भून दिया गया, तो हत्यारों को 5 साल बाद फांसी दे दी गई Prime minister of India

तारीख थी 31 अक्टूबर 1984 (31 October 1984) और समय था सुबह 9:10 बजे। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी(former prime minister) प्रधानमंत्री कार्यालय (The Office of the Prime Minister)  से बाहर चली गईं।

इंदिरा गांधी (Indra Gandhi) अधिकारियों के साथ चर्चा (Discussion)कर रही थीं। अचानक (suddenly) वहां तैनात सुरक्षा गार्ड (security guard) बेअंत सिंह ने अपनी रिवाल्वर (Revolver) निकाली और इंदिरा गांधी पर फायर (shoot) कर दिया। गोली उसके पेट में लगी। इसके बाद बेअंत (Beant Singh)ने दो और फायर किए।

सतवंत सिंह बेअंत सिंह से 5 फीट की दूरी पर खड़े थे। तब बेअंत ने

जब भारत के प्रधान मंत्री को उनके ही सुरक्षा गार्डों द्वारा गोलियों से भून दिया गया, तो हत्यारों को 5 साल बाद फांसी दे दी गई।

उस पर चिल्लाया और कहा – गोली मारो। सतवंत ने तुरंत इंदिरा गांधी पर अपनी स्वचालित कार्बाइन की सभी 25 गोलियां दाग दीं। दोनों ने इतना फायर किया कि इंदिरा गांधी का शरीर क्षतिग्रस्त (Body damaged) हो गया। गोली लगने के 4 घंटे बाद 2 बजे इंदिरा गांधी को मृत घोषित कर दिया गया।

बेअंत सिंह (Beant Singh)को उसी समय वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों(Security personnel) ने मार दिया था।

सतवंत सिंह को गिरफ्तार (arrest) कर लिया गया। केहर सिंह भी इस पूरी साजिश में शामिल था। इंदिरा गांधी के हत्यारे ऑपरेशन ब्लू स्टार (opperation blue star)का बदला लेना चाहते थे। अमृतसर (Amritsar) के स्वर्ण मंदिर (Golden Temple)में ऑपरेशन ब्लू स्टार में हजारों लोग मारे गए थे।

करीब 5 साल (five years) तक अदालतों में मुकदमा चलाने के बाद इंदिरा गांधी Indra Gandhi के दो हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह को 6 जनवरी, 1989( 6 January 1989) को तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। सतवंत सिंह (Satwant singh) हिंसक प्रवृत्ति का था जबकि केहर सिंह शांत था। फांसी के बाद दोनों के शव (बाडी) परिजनों को नहीं दिए गए और जेल प्रशासन (Jail administration)ने अंतिम संस्कार (Funeral) कर दिया।

जब दुनिया ने पहली बार टेलीग्राफ तकनीक को देखा

इस दिन, 1838 में, अमेरिका अमेरिका के अमेरिकी मोर्स ने पहली बार टेलीग्राफ तकनीक को दुनिया के सामने पेश किया था। संदेश मोर्स के टेलीग्राफ में डॉट्स और डैश के माध्यम (mediam) से भेजा जाता है। डॉट अक्षरों और डैश (dot or dashak) (. _)को इंगित करता था। इसके लिए मोर्स ने मोर्स की बनाया।

इस दिन, 1838 में, अमेरिका अमेरिका के अमेरिकी मोर्स ने पहली बार टेलीग्राफ तकनीक को दुनिया के सामने पेश किया था।

मोर्स का जन्म 27 अप्रैल 1791 को मैसाचुसेट्स में हुआ था। 1832 में, जबकि मोर्स यूरोप से अमेरिका के रास्ते में थे, उन्होंने रास्ते में इलेक्ट्रोमैग्नेट्स के बारे में सुना। यहीं से उन्हें टेलीग्राफ का विचार आया।

1838 में टेलीग्राफ के लिए एक पेटेंट प्राप्त करने के बाद, मोर्स ने अमेरिकी कांग्रेस को अपने आविष्कार में पैसा लगाने के लिए राजी किया। इसके बाद वाशिंगटन डीसी से बाल्टीमोर तक एक टेलीग्राफ केबल बनाई गई। 24 मई, 1844 को, मोर्स ने वाशिंगटन डीसी से एक बाल्टीमोर संदेश भेजा जिसमें कहा गया था कि “व्हाट गॉड रोट” यानी “व्हाट गॉड, आपकी रचना। ”

Twspost news times

Leave a Comment

Discover more from Twspost News Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading