Rautia; रौतिया इतिहास में क्षत्रिय लोगों की उपस्थिति लड़ाकू भूमिका के रूप में होती है, यह समुदाय राजपूत से संबंधित है।

 Rautia; रौतिया इतिहास में क्षत्रिय लोगों की उपस्थिति लड़ाकू भूमिका के रूप में होती है, यह समुदाय राजपूत से संबंधित है। 

Rautia


रौतिया समुदाय  मुख्य रूप से झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और अन्य राज्य में स्थित है, जिसे हम आम तौर पर जानते हैं कि इतिहास में क्षत्रिय लोगों की उपस्थिति लड़ाकू भूमिका के रूप में होती है, यह समुदाय राजपूत से संबंधित है। आजकल यह समुदाय हम देखते हैं कि वे दुर्लभ हैं लेकिन भारत में कुछ हिस्से में हम इस समुदाय की भारी उपस्थिति प्राप्त कर सकते हैं, वे ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में भी रहते हैं रौतिया समुदाय का विकास कम है इसलिए जनसंख्या घनत्व अन्य समुदाय की तुलना में कम है

Rautia; रौतिया इतिहास में क्षत्रिय लोगों की उपस्थिति लड़ाकू भूमिका के रूप में होती है, यह समुदाय राजपूत से संबंधित है।

रौतिया जाति के बारे में जानकारी

  • रौतिया जाति के लोगों की परंपराओं के अनुसार, इस समुदाय ने राजपूत राजकुमार की मदद की थी और उनकी रक्षा की थी. उन्हें इनाम के तौर पर लोहरदग्गा और जशपुर क्षेत्र में ज़मीन दी गई थी.
  • रौतिया नाम, रावत से संबंधित है जिसका मतलब होता है राजकुमार. यह राजाओं के रिश्तेदारों द्वारा वहन की जाने वाली उपाधि भी है.
  • रौतिया जाति के लोग हिंदी की सादरी बोली बोलते हैं.
  • रौतिया जाति को एसटी का दर्जा देने की मांग की गई थी.
  • केंद्रीय जनजातीय मामलों की राज्यमंत्री रेणुका सिंह ने रौतिया समाज के लोगों को जल्द ही जनजाति का दर्जा दिलाने का भरोसा दिलाया था.
  • झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रौतिया और खंगार को राज्य की अनुसूचित जनजाति (अजजा) में शामिल किये जाने के संबंध में अपनी मंज़ूरी प्रदान कर दी थी.

Rautia community is mainly located in Jharkhand, Odisha, Chhattisgarh and other state, which we generally know is the presence of Kshatriya people in the history as a combat role, this community is related to Rajput. Nowadays this community we see they are rare but in some part of India we can get huge presence of this community they live in rural and city area also Rautia community development is less so population density is less than other community

रौतिया जाति का इतिहास और उत्पत्ति

रौतिया नाम रावत से संबंधित है जिसका अर्थ है राजकुमार और राजाओं के रिश्तेदारों द्वारा वहन की जाने वाली एक उपाधि भी है। उनके प्रमुख सैन्य सेवा की शर्त पर छोटा नागपुर के राजा की संपत्ति का मालिक थे । 

Rautia; रौतिया इतिहास में क्षत्रिय लोगों की उपस्थिति लड़ाकू भूमिका के रूप में होती है, यह समुदाय राजपूत से संबंधित है।


उनकी परंपराओं के अनुसार, समुदाय ने राजपूत राजकुमार की मदद और रक्षा की, जिसे लोहरदग्गा, जशपुर क्षेत्र में इनाम के रूप में जमीन दी गई थी। वे हिंदी की सादरी बोली बोलते हैं।

Routia 

Jump to navigationJump to search

रौतिया | Rautia
महत्वपूर्ण जन्संख्या वाले क्षेत्र | Regions with significant populations
झारखंड, छत्तीसगढ़, ओडिशा, बिहार | JharkhandChhattisgarhOdisha, Bihar 
भाषा/Language 

• नागपुरी • हिन्दी / .Nagpuri, Hindi 

धर्म /Religion 

हिन्दू | Hinduism

रौतिया जातिजो भारत में बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ और ओडिशा राज्यों में पाई जाती है। उन्हें राउत के नाम से भी जाना जाता है।


Firstpost 

किसी ज़माने में राजे- महाराजे से कम ना थे. झारखण्ड छोटानागपुर में जमीन- जायदाद का ज्यादातर हिस्सा इन्हीं के नाम पर था. अपने नाम के अंत में बस इन्हीं को भगत व सिंह लगाने का हक़ था. जुताई के लिए भैसों की कमी न थी. धान, खेतीबारी भी खूब होते थे. पंचायत चलाना और पंचयती बैठको में इन्हें बुलाना व सुझाव लेना अत्यंत महत्वपूर्ण समझा जाता था. पर यह सब बस किस्से बन चुके है. किसी को याद भी नहीं उनके पूरखे कितने शानो शौकत से जिया करते थे. फिर भी खुद को ऊँचा  दिखाने की कसर नहीं छोड़ते.


 जिनकी तुलना हरयाणा दिल्ली  के ऊँचे जाट के तरह तो बिलकुल ही नहीं की जा सकती. समय बदला, रौतियों के जमीन आपस में बंट गये या तो गैर आदिवासियों को दे/बेच दिया. समय का चक्र ऐसा चला की वो काफी ज्यादा पिछड़ गए; चाहे वो जमीन, कृषि, शिक्षा, सम्मान या धन का क्षेत्र हो. उनके ओहदे को किसी की नज़र सी लग गयी.


देर आये दुरुस्त आये! २०१६ से रौतियों की आँख खुली तो खुद को एक साजिश के तहत अनुसूचित जनजाति के सूची में नहीं पाया. उनको बात समझ आ गयी की इस आधुनिक युग में सम्मान वापस पाना होगा. पढ़ाई जरुरी है और रोजगार पाना भी, नौकरी करनी जरुरी है. मगर कैसे?


जब इनका समाज धन- धान्य से भरपूर हुआ करता था, पितृसत्ता ने अपने लिए नए नियम बनाये की यह समाज एक से ज्यादा औरतों को रख सकता था. यही वह अकेला समूह था जो की अपने से बाहर के समाज की औरतों से शारीरिक सम्बन्ध बना सकते थे तथा उनसे होने वाले संतानों को पिता का नाम और थोड़ी बहुत ही जमीन व मान्यता दे दी जाती. देखा जाए तो एक ही समाज में दो तरह के गुट विभाजित हैं; एक तो मुख्य रौतिया गंझू (गैर-आदिवासी) और दूसरा चेरो (आदिवासी) रौतिया जिनके पिता मुख्य रौतिया और माता अन्य जातियों/जनजातियों से वास्ता रखती हो. हाल के समय में यह बताना कठिन हो चूका है की कौन से रौतिये किस गुट से हैं. 
Twspost news times

Leave a Comment

Discover more from Twspost News Times

Subscribe now to keep reading and get access to the full archive.

Continue reading